केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे की सास चंद्रप्रभा द्विवेदी का कोरोना से निधन

766
0
SHARE

संवाददाता.पटना.केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे की सास एवं संस्कार भारती की आजीवन सदस्य नीता चौबे की माता 86 वर्षीय चंद्रप्रभा द्विवेदी  का कोरोना से निधन हो गया है। उन्होंने मुंबई के लीलावती अस्पताल में अंतिम सांस ली। वे अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ गई हैं।

चंद्रप्रभा, अखिल भारतीय एसबीआई पेंशनर्स एसोसिएशन के सह अध्यक्ष स्वर्गीय श्याम सुंदर द्विवेदी की धर्मपत्नी व बैंकर्स एसोसिएशन के पूर्व महासचिव और बिटिया बचाओ बिहार के संरक्षक रहे प्रख्यात समाजसेवी स्वर्गीय आनंद द्विवेदी की माता थी।गत दिनों मुम्बई के लीलावती अस्पताल में कोविड संक्रमण के इलाज के दौरान हृदय गति रुकने से उनकी मृत्यु हो गई।

ज्ञात हो कि स्वर्गीय चंद्रप्रभा द्विवेदी एक जुझारू और सामाजिक महिला थी। जिन्होंने 74 आंदोलन के आपातकाल में भी बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया था। और उस समय के बड़े बड़े आंदोलनकारी एवं छात्र नेताओं को जेल में खाना, दवा आदि पहुंचाने जाया करतीं थी एवं सेवा का कार्य करतीं थी। जिसमें अश्विनी चौबे के अलावा, सुशील मोदी और लालू प्रसाद, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री महामाया बाबू, कपिलदेव सिंह भी शामिल रहें हैं। उनके बनाए भोजन, व्यंजन के लिए छात्र नेता आदि लालायित रहते थे। स्वर्गीय द्विवेदी कर्मठ एवं आध्यात्मिक महिला थी। जिन्होंने लोकगीत, संगीत, लोककला, घरेलू उपचार और पारंपरिक व्यंजन पर कई लेख लिखे एवं पुस्तक भी लिखा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्री चौबे ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि मेरे ससुर एक सामाजिक कार्यकर्ता थे और उनके मृत्यु उपरान्त माताजी उन्ही के साथ 18 वर्षों से रह रहीं थी। उन्होंने कहा कि वो मेरी सासु माँ जरूर थी, उन्होंने मुझे जन्म तो नही दिया था। लेकिन मेरी स्वर्गीय सहोदर माँ से भी ज्यादा प्यार उनके द्वारा मिला। उन्होंने हमेशा विपरीत परिस्थिति में मेरा साथ दिया और निरंतर मेरे अंदर ऊर्जा भरने का काम करती थीं। उनके चले जाने से मेरे जीवन में एक शून्यता आने लगा है। एक अभिवावक के तौर पर उन्होंने मेरा मार्गदर्शन किया जिसका कर्ज मैं नही चुका सकता।

उन्होंने कहा कि स्वर्गीय द्विवेदी अपने पीछे दो पुत्री नीता चौबे एवं अनिता त्रिवेदी और एक पुत्र डिप्टी कमिश्नर कस्टम्स विवेक द्विवेदी को छोड़ गई हैं। ज्ञात हो कि उनकी मंझली पुत्री संगीता मिश्रा 2013 में केदारनाथ प्राकृतिक आपदा में पति सुबोध मिश्रा सहित काल कलवित हो गयी थी। जो मेरे साथ तीर्थाटन पर गए थे एवं एमएनडी जैसे विकट रोग से सबसे छोटे पुत्र आनंद के मृत्यु के बाद भी विचलित नही हुई और डट कर संघर्ष करती रहीं। अपने अंतिम पड़ाव पर भी लीलावती अस्पताल में अपने बड़े पुत्र विवेक के साथ भर्ती होकर अपना आयु उसे देकर सदा के लिए अलविदा हो गईं। भगवान से प्रार्थना करता है कि ऐसी पुण्य आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें।

 

LEAVE A REPLY