जानें…जेल से मुक्ति के बाद भी पटना क्यों नहीं आएंगे लालू प्रसाद ?

975
0
SHARE

प्रमोद दत्त.पटना.लगभग तीन वर्षों के बाद जेल से मुक्ति के बाद लालू प्रसाद अभी पटना नहीं आएंगे.जबकि लालू समर्थक बेसब्री से अपने नेता के पटना आगमन का इंतजार कर रहे हैं.समर्थकों का यह मानना है कि जोड़-तोड़ में माहिर लालू प्रसाद के पटना आगमन के साथ ही नीतीश सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी.

इसके बावजूद लालू प्रसाद फिलहाल पटना से दूरी बनाए रखना चाहते हैं.राजद सूत्रों के अनुसार लालू प्रसाद के स्वास्थ्य को देखते हुए परिवार वालों ने यह तय किया था कि दिल्ली एम्स में ही वे भर्ती रहेंगे और डॉक्टरों की निगरानी में रहेंगे.लेकिन कोरोना के बढते संक्रमण को देखते हुए एम्स के डॉक्टरों ने ही घर पर डॉक्टरों की निगरानी में रहने की सलाह दी.लेकिन जब पटना आने की बात हुई तो परिवार वालों को कोरोना संक्रमण का भय सताने लगा.क्योंकि स्वभाव के अनुसार न लालू प्रसाद लोगों से मिलने जुलने से परहेज करेंगे और न ही उनके समर्थक अपने नेता से मिलने की व्याकुलता पर रोक लगा पाएंगे.इसलिए तय हुआ है कि कोरोना की दूसरी लहर के शांत होने तक लालू प्रसाद अपनी सांसद बेटी मीसा भारती के आवास पर डॉक्टरों की निगरानी में रहेंगे और गिने चुने लोगों से ही मिलेंगे.

उल्लेखनीय है कि विगत 17 अप्रैल को ही झारखंड हाईकोर्ट द्वारा लालू प्रसाद को जमानत मिली थी.लेकिन कोरोना के कारण वकीलों के अदालती प्रक्रिया में रोक के कारण रिलीज ऑर्डर में देरी हुई. बार कौंसिल ऑफ इंडिया ने लालू प्रसाद को बड़ी राहत देते हुए कहा कि जमानत मिलने के बाद भी किसी को जेल में रखना उसके अधिकारों का हनन है. कौंसिल के इस आदेश के बाद गुरुवार 29 अप्रैल को लालू यादव का बेल बॉन्ड भरा गया है।इसके बाद सीबीआई कोर्ट ने लालू का रिलीज आर्डर जारी कर दिया.लालू के बेलर के तौर पर निशिकांत और राजू गोप हुए कोर्ट में उपस्थित रहें.लालू प्रसाद फिलहाल बिरसा मुंडा जेल के कस्टडी में एम्स में इलाजरत हैं.

जमानत की कागजी प्रक्रिया पूरी होने के बाद लालू यादव जेल से बाहर निकल जाएंगे. लालू प्रसाद को 17 अप्रैल को झारखंड हाईकोर्ट से चारा घोटाले में जमानत मिल गई थी. लेकिन अब तक उनकी अदालती प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी थी.अब उनके बाहर निकलने का रास्ता साफ हो गया है.

 

LEAVE A REPLY