जानिए… कैसे बुरे फंसे केके पाठक?

183
0
SHARE
KK Pathak

विधान परिषद सभापति ने लिया एक्शन
संवाददाता.पटना.शिक्षकों को गाली देने वाले शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक के कथित वायरल वीडियो  पर विधान परिषद में पक्ष-विपक्ष के सदस्यों ने जमकर हंगामा किया। हंगामे के बाद सभापति ने जो फैसला लिया,उसमें केके पाठक के बुरे फंसने की संभावना बढ गई है।
बुधवार को इस मुद्दे पर बिहार विधान परिषद में हंगामा हुआ। एक साथ सभी दलों के सदस्य आक्रोशित दिखे।तब विधान परिषद सभापति ने एक्शन लिया। बीजेपी एमएलसी संजय मयूख ने कहा कि केके पाठक हमारे गुरुजनों का अपमान कर रहे हैं। हमने अपने विद्यालय में गुरुजनों से शिक्षा ग्रहण की है और उन गुरुओं को अधिकारी इस तरह से अपमानित कर रहे हैं वह बर्दाश्त नहीं होगा।
इसके पहले, शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक के खिलाफ बुधवार को बिहार विधान परिषद में पक्ष और विपक्ष के सदस्यों ने कार्रवाई की मांग की। केके पाठक से जुड़े एक ऑडियो क्लिप का हवाला देते हुए सदस्यों ने कहा कि इसमें राज्य के शिक्षकों को केके पाठक गाली दे रहे हैं। दर्जनों एमएलसी ने एक साथ खड़े होकर कहा कि केके पाठक लगातार गाली दे रहे है। उनका वीडियो-ऑडियो वायरल है। विधान परिषद के सभापति से सदस्यों ने सदन में वीडियो-ऑडियो क्लिप चलाने की मांग की।
एमएलसी संजय कुमार सिंह ने वायरल क्लिप के एक हिस्से का हवाला देते हुए कहा कि केके पाठक इसमें गाली देते हुए कह रहे हैं ‘ये … शिक्षक को नौ बजे लाओ, साफ सफाई करवाओ’।
इसी तरह कई सदस्यों ने दलीय भावना से उठकर एक साथ केके पाठक पर कार्रवाई करने की मांग की. सदस्यों ने इसे सदन की गरिमा के खिलाफ और शिक्षकों के सम्मान के विरुद्ध करार दिया। सभी एमएलसी ने कहा कि केके पाठक पहले भी इसी तरह अपने विवादित बयानों से सदन का अपमान करते रहे हैं। वे एमएलसी के खिलाफ एक्शन भी ले चुके हैं। इसकी शिकायत एमएलसी के प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से भी की थी जो विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति होते हैं। बावजूद इसके अभी तक केके पाठक पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। सदस्यों ने कहा कि ऐसा लगता है कि सरकार के किसी बड़े लोग का हाथ इस अधिकारी पर है।
विधान परिषद सदस्यों की चिताओं पर शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा कि सरकार पूरी गम्भीरता से आपकी चिंताओं को सुन रही है। गलत परम्परा की शुरुआत नहीं होनी चाहिए। सभी को आसन पर भरोसा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि विधान परिषद के सभापति इस पर सरकार को अपना सुझाव दें फिर सरकार देखेगी।

इस पर विधान परिषद के सभापति देवेश चंद्र ठाकुर ने कहा कि सदस्यों की भावनाओं से अवगत हूँ।उन्होंने कहा कि जिस वायरल क्लिप को यहां दिया गया है उसे मेरे कक्ष में देखा जाएगा। शिक्षा मंत्री, विपक्ष के नेता सहित पांच-छह सदस्य मिलकर साथ में उसे देखेंगे और उसके बाद निर्णय लिया जाए। उन्होंने सदन को भरोसा दिया कि अगर अधिकारी (केके पाठक) कुछ अमर्यादित और असंसदीय कहा है तो इसे विशेषाधिकार के तहत देखा जाएगा।