आइटम नंबर्स से ही मेरी पहचान-सीमा सिंह

1400
0
SHARE

अनूप नारायण सिंह.

सीमा सिंह भोजपुरी फिल्मों की चर्चित आइटम गर्ल हैं।डांसिंग की वजह से लोग उनकी तुलना हेलेन से करते हैं। इस वजह से उन्हें हेलेन और डांसिंग क्वीन के नाम से भी बुलाया जाता है।सीमा अब तक करीब 250 से अधिक भोजपुरी फिल्मों में आइटम सांग कर चुकी हैं। हाल ही में रिलीज  प्रियंका चोपड़ा द्वारा प्रोड्यूस और दिनेशलाल यादव की एक्टिंग से सजी फिल्म ‘बम बम बोल रहा है काशी’ में भी सीमा आइटम किया है।इसी फिल्म की चर्चा के साथ बातचीत शुरू होती है।

-इस फिल्म की क्या उपलब्धि रही?

– एक गाना गुजरात के हलोल में फिल्माया गया । इसके करियोग्राफर कानू मुखर्जी हैं। इस आइटम सांग के बोल हैं बुलेरो की चाबी। यह गाना इस वक्त बिहार में भोजपुरी ऑडियंस की पसंदीदा है।

-250 फिल्मों के सफर में परिवार का कितना सपोर्ट मिला?

– पापा नहीं चाहते थे कि मैं फिल्म इंडस्ट्री में काम करूं। आज जो कुछ हूं, मम्मी के सपोर्ट के चलते आज यहां हूं। बचपन से ही मुझे फिल्मों में काम करने का शौक था। मेरा डांस देखकर फ्रेंड्स फिल्मों में जाने की सलाह देते थे।

-फिर इंडस्ट्री में प्रवेश कैसे हुआ?

– डांस बचपन से करती थी। इसके बाद स्टेज शो करने लगी।स्टेज के माध्यम से फिर फिल्मों में आना हुआ।

– बतौर एक्ट्रेस भी काम मिला क्या?

– बतौर एक्ट्रेस ‘चोरवा बनल दामाद’ में काम कर चुकी हूं। फिल्म में मेरे अपोजिट थे भोजपुरी स्टार पवन सिंह।इस फिल्म से हीरोइन बनने की  तमन्ना पूरी हुई।

-आइटम गर्ल की पहचान बन जाने से क्या फर्क आया?

– मुझे आइटम गर्ल कहलाने में गर्व महसूस होता है। आखिर आइटम नंबर्स से ही मेरी पहचान बनी है।

-लेकिन यह पहचान तो भोजपुरी तक सिमट गई।

–  ऐसा नहीं कह सकते हैं आप।मैं भोजपुरी के अलावा राजस्थानी, मराठी, हिंदी और गुजराती फिल्मों में भी काम कर चुकी हूं।मैंने वेस्टर्न और क्लासिकल डांस की भी ट्रेनिंग ली है।

 

 

LEAVE A REPLY