राज्य में बढते अपराध पर दोनो सदन में हंगामा-कार्य बाधित

1722
0
SHARE

12743873_955314564557130_1116360621112005883_n

निशिकांत सिंह.पटना. राज्य में बढते अपराध पर दोनों सदनों में आज जमकर हंगामा हुआ. विधानसभा की कार्यवाई प्रारंभ होते ही बढते अपराध पर कामरोको प्रस्ताव को मंजूर करने को लेकर तो उधर विधान परिषद में भी इसी मामले पर कामरोको प्रस्ताव लाया गया. प्रस्ताव नामंजूर किए जाने पर मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनाता पार्टी एवं एनडीए के सहयोगी दलों ने राज्य में बढ़ते अपराध पर हंगामा किया. सदन की कार्यवाही को बाधित किया.

इससे पूर्व एनडीए गठबंधन के विधायकों ने विधानसभा के मुख्यद्वार पर हंगामा एवं नारेबाजी करते रहे. विपक्षी सदस्यों ने अपने नारे में अपराधी मस्त सरकार पस्त के नारे लगा रहे थे.विधान सभा में सदन की कार्यवाही जैसे ही प्रारंभ हुई भाजपा के सभी सदस्य नारेबाजी करने लगे. विपक्ष के नेता डा. प्रेम कुमार ने कहा कि राज्य में अपराधियों का बोलबाला है. राज्य में राजनीतिक हत्याएं हो रही है. भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष की हत्या हो गई, लोजपा नेता की हत्या हो गई, छपरा में भाजपा नेता केदार सिंह की हत्या हो गई लेकिन अभी तक किसी भी हत्याकांड में नामजद मुख्य अभियुक्त की गिरफ्तारी नहीं हो पायी है. नेता विपक्षी दल ने कहा कि राज्य सरकार बलात्कारी विधायक को गिरफ्तारी नहीं कर पायी है. अराधियों का संरक्षण सरकार दे रहीं है.

इस दौरान संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि ये लोग दोहरी नीति अपना रहें है. केंद्र में जब विपक्ष हंगामा करते है लोकसभा में तो ये लोग कहते है कि विपक्ष कार्य को बाधित कर नुकसान कर रहीं है वहीं यहां पर ये लोग हंगामा कर क्या बिहार के जनता का नुकसान नहीं कर रहें है. इसपर विधानसभा अध्यक्ष विजय चौधरी ने कहा कि नियमन के अनुसार विरोध करें सदन को चलने दिजिए आपलोग नियम के तहत अपना विरोध दर्ज किजिए सरकार सुनेगी. इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने नियमन दिया कि आपलोगों की बात रिकार्ड नहीं होगी,प्रेस में नहीं जायेगी.इसके बाद ही विपक्षी सदस्य सदन की बेल में आ गए और नारेबाजी करने लगे तो विधानसभा अध्यक्ष ने बैठक स्थगित कर दी.जब कार्यवाही आरंभ हुई फिर विपक्षी सदस्य हंगामा करने लगे तब विधानसभा अध्यक्ष ने दोपहर के भोजनावकाश तक के लिए सदन की कार्यवाई स्थगित कर दी.

उधर विधानपरिषद में भी बढ़ते अपराध पर जमकर हंगामा हुआ. सदन की कार्यवाही जैसे ही प्रारंभ हुई मुख्य विपक्षी दल भाजपा के रजनीश कुमार ने कार्यस्थगन प्रस्ताव दिया जिसे सभापति अवधेश नारायण सिंह ने नामंजूर कर दिया. इसके बाद पूरा विपक्ष नारेबाजी करते हुये बेल में आ गया. नारेबाजी और शोर शराबा के बीच सभापति ने सदन की कार्यवायी दो बजे दिन तक के लिए स्थगित कर दी. दोपहर बाद सदन की कार्यवाही आरंभ होने के बाद भी हंगामा जारी रहा औऱ वित्त मंत्री अब्दुल बारी सिद्धकी ने हंगामे के बीच ही बजट भाषण दिया.

बाद में भाजपा विधानमंडल दल के नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिगड़ती कानून व्यवस्था पर रजनीश जी ने कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया था. सुशील मोदी ने कहा कि राज्य सरकार बहस से भाग रहीं है. दरभंगा में दो इंजीनियरों की हत्या हुयी लेकिन मुख्यआरोपी अभी तक फरार है. पटना में सोना व्यवसायी की हत्या हुयी लेकिन मुख्य आरोपी दुर्गेश शर्मा अभी तक फरार है. लोजपा नेता बृजनाथी सिंह की हत्या हुयी लेकिन मुख्यआरोपी फरार है. राजद विधायक बलात्कार करता है नाबालिग के साथ लेकिन फरार है सरकार ने अभी तक राजबल्भ यादव की परिसंपत्ति को जब्त तक नहीं कर पायी है.

सुशील मोदी ने कहा कि राज्य सरकार सदन की कार्यवाही शनिवार को की है क्या तुक बनता है. जबकि हमलोगों का पहले से कार्य तय है पूरा विपक्ष बहिष्कार करेगा शनिवार को . इसकी सूचना हमलोग पहले ही दे चुके है.

 

LEAVE A REPLY