मुख्य सचिव ने की मिशन इंद्रधनुष कार्यक्रम पर बैठक

59
0
SHARE

संवाददाता.रांची.मुख्य सचिव डॉ. डीके तिवारी ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि ऐसी व्यवस्था करें कि मिशन इंद्रधनुष के टीकीकरण से राज्य का एक भी बच्चा नहीं छूटे। बताते चलें कि मिशन इंद्रधनुष अभियान के तहत जन्म से लेकर पांच साल तक के बच्चों को 11 गंभीर बीमारियों से जीवन भर बचाने के लिए टीकाकरण किया जाता है।

इस अभियान के तहत विशेषकर सामान्य टीकाकरण से छूटे हुए बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को चिह्नित कर उनका टीकाकरण किया जाएगा। यह विशेष अभियान 2 दिसंबर 2019 से शुरू होकर मार्च 2020 तक चलेगा। मुख्य सचिव ने इसकी सफलता के लिए सूचना एवं जनसंपर्क विभाग को व्यापक तौर पर लोगों को जागरूक करने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि यह मिशन हर परिवार के लिए लाभदायक है, यह संदेश सही तरीके से आम जनता तक पहुंचना चाहिए। साथ ही, इसे लेकर कतिपय भ्रांतियों को भी दूर करने को कहा। मुख्य सचिव झारखंड मंत्रालय में मिशन इंद्रधनुष के कार्यक्रम की सफलता को लेकर बैठक कर रहे थे।

मुख्य सचिव ने सभी संबंधित विभागों से कहा कि वे 2 दिसंबर से पहले अपने अपने विभागों की अलग-अलग बैठक कर तथा अन्य विभागों से समन्वय बनाकर मिशन को सफल बनाने की ग्रास रूट तक की पूरी कार्ययोजना बना लें। उन्होंने मिशन की पहुंच टीकाकरण से छूटे जंगल-पहाड़ों पर बसे परिवारों के बच्चों और गर्भवती महिलाओं तक पहुंचाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम बीमारी होने से पहले उसे रोकने से जुड़ा है, इसलिए काफी महत्वपूर्ण है।

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में संपन्न बैठक में स्कूली शिक्षा के प्रधान सचिव एपी सिंह, स्वास्थ्य सचिव डॉ नितीन मदन कुलकर्णी, कल्याण सचिव हिमानी पांडे, महिला बाल विकास सचिव अमिताभ कौशल, पंचायती राज सचिव प्रवीण टोप्पो सहित यूनिसेफ, डब्ल्यूएचओ सहित अन्य संबंधित संस्थाओं के अधिकारी मौजूद थे।

 

LEAVE A REPLY