भाजपा का संकल्प पत्र-5 सूत्र,एक लक्ष्य,11 संकल्प के साथ आगे बढ़े बिहार

203
0
SHARE

संवाददाता.पटना.भाजपा है तो भरोसा है और इसी भरोसे के साथ भाजपा ने बिहार को आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प लेते हुए 2020 से 2025 तक का रोड मैप यानी अपना संकल्प पत्र जारी किया।  घोषणा पत्र को 5 सूत्र, एक लक्ष्य 11 संकल्प के विजन के साथ जारी किया गया है।

पांच सूत्र – शिक्षित बिहार आत्मनिर्भर बिहार,स्वस्थ समाज आत्मनिर्भर बिहार,गांव-शहर सबका विकास,सशक्त कृषि समृद्ध किसान तथा उद्योग आधार सबल समाज

एक लक्ष्य- आत्मनिर्भर बिहार

11 संकल्प – हर बिहारवासी को कोरोना वैक्सीन का मुफ्त टीकाकरण करवाएंगे।अगले एक वर्ष में सभी शिक्षण संस्थानों  में तीन लाख नए शिक्षकों की नियुक्ति करेंगे।बिहार को नेक्स्ट जेनरेशन आईटी हब के रुप में विकसित करके अगले 5 वर्षों में 5 लाख से ज्यादा रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएंगे।स्वयं सहायता समूहों तथा माइक्रो फाइनेंस संस्थाओं के माध्यम से 50 हजार करोड़ की माइक्रो फाइनेंस से 1 करोड़ महिलाओं को स्वावलंबी बनाएँगे। 10 हजार चिकित्सक, 50 हजार पैरामेडिकल कर्मियों सहित राज्य में कुल एक लाख लोगों स्वास्थ्य विभाग में नौकरी के अवसर प्रदान करेंगे, दरभंगा एम्स को 2024 तक चालू करेंगे।धान तथा गेंहू के बाद अब दलहन की भी खरीद एमएसपी की निर्धारित दरों पर ही करेंगे।बिहार के ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों के और 30 लाख लोगों को वर्ष 2022 तक पक्के मकान देंगे।मेडिकल, इंजिनियरिंग समेत सभी तकनीकी शिक्षा को हिंदी भाषा में उपलब्ध कराएंगे। अगले 2 वर्षों में निजी एवं कोम्फेड आधारित 15 नए प्रोसेसिंग उद्योग खड़े करेंगे।अगले दो वर्षों में इनलैंड यानी मीठे पानी में पलने वाली मछलियों के उत्पादन में राज्य को देश का नंबर एक राज्य बनाएँगे।बिहार के एक हजार नए किसान उत्पादन संघों (एफपीओ) को आपस में जोड़कर राज्य भर के विशेष फसल उत्पाद जैसे मक्का, फल, सब्जी, चुड़ा, मखाना, पान, मसाला, शहद, मेंथा, औषधीय पौधों का सप्लाई चेन विकसित करेंगे। इससे प्रदेश मे् रोजगार के अवसर सृजित होंगे।

संकल्प पत्र को पेश करते हुए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने कहा कि भाजपा है तो भरोसा है और इसी भरोसे के साथ हमने घोषणापत्र लाया है। हमारा दो सबसे प्रमुख कार्य राष्ट्रवाद और विकास है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में देश को गरीब-कल्याण और आधार भूत संरचना के विकास तथा आर्थिक उन्नति के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प लेते हए प्रगति के पथ पर आगे बढ़ने का फैसला किया है। हमने इन्हीं संकल्पों के साथ चलते के हुए बिहार को भी आत्मनिर्भर बिहार बनाने का बीड़ा उठाया है। हमारी एनडीए सरकार ने पिछले 15 वर्षों बिहार के विकास को नई ऊंचाईयां दी हैं। हमने बिहार को बिजली, पानी सड़क सुरक्षा से जुड़ी बुनियादी समस्याओं से निकालकर आगे ले जाने का काम किया है। विकास की निरंतरता आगे भी जारी रहे इसके लिए हम प्रतिबद्ध हैं।

उन्होंने कहा कि शिक्षा की उन्नति, स्वास्थ्य के ठोस उपाय,रोज़गार के अवसर, सशक्त कृषि व समृद्ध किसान तथा गांव-शहर सबके विकास के पथ पर चलते हुए हम 11 संकल्प रख रहे हैं। इन 11 संकल्पों से न केवल 19 लाख रोज़गार के अवसर मिलेंगे बल्कि एक करोड़ महिलाओं को आर्थिक आत्मनिर्भरता प्राप्त होगी। कोरोना की वैक्सीन बिहार के लोगों को नि:शुल्क उपलब्ध कराई जाएगी, तकनीकी शिक्षा को भी हिंदी में उपलब्ध कराएंगे तथा बिहार को नेक्स्ट जेनरेशन आईटी हब के रुप में विकसित करेंगे।

विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि जिनके पास न दृष्टि है न दिशा है न नीति है न नियत है वैसे लोग रोज़गार की रट लगाए घूम रहे हैं, जब तक उनकी सत्ता होती है तब तक उनको अपने परिवार के रोज़गार के अलावा कुछ नहीं सूझता लेकिन जब विपक्ष में होते हैं तो कागजी रोज़गार बांटते रहते हैं। बिहार में 19 लाख रोज़गार के अवसर पैदा करना और एक करोड़ महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना हमारा संकल्प भी और हमारी प्रतिबद्धता भी, इसे हमारी सरकार ही पूरा करेगी इस पर बिहार की जनता को भरोसा भी है क्योंकि भाजपा जो कहती है वो पूरा करती है।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि बिहार के लिए संकल्प पत्र पेश करते हुए मुझे खुशी हो रही है। बिहार एक ऐसा प्रदेश है जहां के लोग राजनीतिक रुप से काफी संवेदनशील और जागरुक हैं। बिहार के लोगों को संकल्प पत्र पर भरोसा दिलाना इतना आसान नहीं है लेकिन भरोसे को आधार बनाते हुए हमने इसे जारी किया है क्योंकि गत वर्षों में संकल्प पत्र के हर वादे को हमने पूरा किया। हमे पूर्ण आत्मविश्वास है कि इन वादों को पूरा कर पाएंगे।पिछले 6 साल में पीएम मोदी ने ग़रीबों के लिए जितने वादे किए उसे पूरा किया चाहे हर गांव तक बिजली, गरीब महिला के लिए गैस सिलेंडर हो या फिर हर भारतीय नागरिक का बैंकों में खाता खुलवाना हो।

लॉकडाउन के दौरान हर गरीब के खाते में हर महीने 500 रुपए के हिसाब से 1500 रुपए भेजे गए जो जन-धन योजना की वजह से संभव हो पाया। गरीबों को मुफ्त राशन दिया गया। दिव्यांगों, बुजुर्गों के खाते में भी एक-एक हजार की सहायता राशि भेजी गई। हमने इतने कठिन माहौल में भी लोगों की बुनियादी ज़रूरतों को पूरा किया।

एनडीए सरकार के कार्यों की तुलना और बदलते बिहार की तस्वीर दिखाते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि वर्ष 1990 से 2005 तक बिहार का बजट सिर्फ 23 हजार करोड़ था जो अब बढ़कर 2 लाख करोड़ हो गया है। बिहार की जीडीपी पहले 3 फीसदी थी जो बढ़कर 11.3 फीसदी पर पहुंच गई है। ये सब तभी संभव हो पाया जब सरकारी योजनाओं का सही से क्रियान्वयन किया गया। बिहार में प्रति व्यक्ति आय पहले 8 हजार थी जो अब बढ़कर 43 हजार हो गई है क्योंकि हमने जनता के लिए काम किया उनकी भलाई के लिए काम किया। बिहार में पहले बिजली का उत्पादन सिर्फ 22% था जो अब बढ़कर 100% हो गया है क्योंकि बिजली की डिमांड अब बढ़ गई है। 1990 से 2005 के बीच 15 सालों मे सिर्फ 34% लोगों को ही पक्का मकान मिला था जो अब बढ़कर 96% हो गया है।

बिहार की कृषि विकास दर 2.3 फीसदी से 8.5 फीसदी तक पहुंच गई है। नॉन एग्रीकल्चर एक्टिविटी 3.9 फीसदी से बढ़कर 12 फीसदी हो गई है चाहे वो उद्योग हो या फिर व्यापार। बिहार के लोग अपनी काबिलियत की बदौलत पूरे देश में रोज़गार पा रहे हैं। एनडीए के शासन में बिहार जैसे कृषि प्रधान राज्य में औद्योगिक विकास दर 17% हो गया है जो यह दर्शाता है कि बिहार किस तेजी से विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है। संकल्प पत्र को लेकर उन्होंने कहा कि जब कोरोना की वैक्सीन बनेगी तो बिहार के लोगों को नि:शुल्क दी जाएगी, दरभंगा एम्स 2024 तक चालू हो जाएगा, बिहार में खेल-कूद यूनिवर्सिटी बनाई जाएगी। बिहार की जनता से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि एनडीए को वोट देकर जिताएं और नीतीश कुमार को फिर से मुख्यमंत्री बनाएं।

बिहार के कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार ने कहा कि यह महज एक घोषणा नहीं है बल्कि हमारा संकल्प है, आत्मनिर्भर बिहार बनाने का रोड मैप है। घोषणापत्र को तैयार करने में हर वर्ग की अंकाक्षाओं को ध्यान में रखा गया है। इस घोषणा पत्र को जनता द्वारा, जनता के लिए, जनता के दृष्टिकोण से तैयार किया गया है। इसमें सबकी अंकाक्षाओं को समाहित किया गया है चाहे वो गरीब हो दलित हो शोषित हो या वंचित हो। हमने पिछले 15 सालों में बिहार को संवारने का काम किया है और अब आत्मनिर्भर बिहार बनाने की ओर कदम रखने जा रहे हैं।

इस अवसर पर बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव, भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राधा मोहन सिंह, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी चौबे,केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय, केंद्रीय उर्जा राज्य मंत्री आरके सिंह, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, भाजपा के राष्ट्रीय सह मीडिया प्रभारी व प्रवक्ता संजय मयूख, राज्यसभा सांसद विवेक ठाकुर मौजूद रहे।

 

 

LEAVE A REPLY