बिहार साकार करेगा पीएम मोदी के आत्मनिर्भर भारत का संकल्प-जेपी नड्डा

236
0
SHARE

संवाददाता.पटना. भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कहा है कि यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को बिहार साकार करेगा।
श्री नड्डा शनिवार को प्रदेश भाजपा मुख्यालय के अटल सभागार में आयोजित ‘आत्मनिर्भर बिहार’ अभियान के शुभारंभ के अवसर पर उपस्थित विभिन्न क्षेत्रों के बुद्धिजीवियों की सभा को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर  प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल, राज्य के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं बिहार के प्रभारी भूपेन्द्र यादव, केंद्रीय मंत्री एवं पार्टी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद, केन्द्रीय मंत्री नित्यानंद राय सहित प्रदेश स्तर के सभी बड़े नेता, जन-प्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता मौजूद थे।

अपने उद्बोधन के पश्चात् श्री नड्डा ने ‘आत्मनिर्भर बिहार’ के लिए बिहारवासियों के सुझावों को एकत्रित करने के लिए अनेकों  डिजिटल रथों को भाजपा का झंडा दिखा कर रवाना किया। इसके अलावा श्री नड्डा ने बिहार चुनावों के लिए पार्टी का थीम सॉंग ‘जन-जन की पुकार ‘आत्मनिर्भर बिहार’, टोल फ्री नंबर 6357171717 एवं www.atamnirbharbihar com को भी लाँच किया. गौरतलब हो कि इस टोल फ्री नंबर और वेबसाइट के जरिए भी  लोग घर बैठे अपने सुझाव पार्टी को भेज सकते है.
श्री नड्डा ने अपने उद्बोधन में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा आत्मनिर्भर भारत बनाने का संकल्प लिया गया है, इस संकल्प की अगुवाई बिहार आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर होते हुए करेगा। बिहार को आत्मनिर्भर बनाने की अपार संभावनाएं मौजूद हैं। बिहार के फल, चाहे वो लीची हो, जर्दालू आम हो, आंवला हो, मखाना हो या फिर मधुबनी पेंटिंग्स हो, ऐसे अनेक उत्पाद बिहार के जिले-जिले में हैं जिनसे वोकल फॉर लोकल की तर्ज़ पर बिहार को आत्मनिर्भर बनाया जा सकता है। इसी दिशा में कदम बढ़ाते हुए भाजपा “आत्मनिर्भर बिहार अभियान’ की शुरुआत करने जा रही है। यह अभियान बिहार को न सिर्फ आर्थिक बल्कि सामाजिक एवं सांस्कृतिक रुप से मजबूत बनाने में अहम भूमिका निभाएगा। ‘आत्मनिर्भर बिहार’ एक राज्यव्यापी अभियान होगा जिसके द्वारा पार्टी 2 करोड़ से अधिक घरों तक विभिन्न माध्यमों से पहुंचेगी।
श्री नड्डा ने कहा कि आत्मनिर्भर बिहार अभियान का उद्देश्य प्रदेश वासियों की आकांक्षाओं और सुझावों को एकत्रित कर बिहार को आत्मनिर्भरता के मार्ग पर प्रशस्त करना है। कोरोना महामारी के कारण इस अभियान में डिजिटल माध्यमों का अधिक उपयोग किया जाएगा। बिहार की जनता ‘आत्मनिर्भर बिहार’ के संदर्भ में अपने सुझाव विभिन्न माध्यमों से पार्टी तक पहुँचा सकते हैं।उन्होंने कहा कि 120 से अधिक डिजिटल रथ प्रदेश भर में यात्रा करेंगे जिनमें सुझाव पेटियाँ रखी जाएँगी जिसमें इच्छुक व्यक्ति अपने सुझाव साझा कर सकेंगे। इच्छुक व्यक्ति आत्मनिर्भर बिहार के सोशल मीडिया हैंडल्स पर भी अपने सुझाव साझा कर सकते हैं।
इसके अतिरिक्त अभियान के अंतर्गत विभिन्न वर्गों के साथ पार्टी के प्रमुख नेता डिजिटल संवाद, टाउनहॉल, रथ सभा और जन सभा आदि कार्यक्रमों द्वारा भी संवाद स्थापित करेंगे ताकि आत्मनिर्भर बिहार के निर्माण के लिए प्रत्येक वर्ग की आकांक्षाओं को एकत्रित किया जा सके। इसके साथ ही पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा 2 करोड़ घरों तक जनसंपर्क अभियान कर प्रदेश वासियों की अधिकतम भागीदारी भी सुनिश्चित की जाएगी। इस महत्वाकांक्षी अभियान के दौरान सभी माध्यमों से प्राप्त हुए सुझावों को संग्रहित कर ‘आत्मनिर्भर बिहार संकल्प-पत्र’ बनाया जाएगा, जिसको भाजपा रोड मैप की तरह उपयोग करके एवं जनता के समर्थन और योगदान से अगले पाँच सालों में बिहार को आत्मनिर्भरता की ओर ले जाएगी।
बिहार और खास कर पटना के साथ अपने आत्मीय संबंधों की चर्चा करते हुए माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि मैं बदलते बिहार का चश्मदीद गवाह हूँ और यह परिवर्तन बिहार में एनडीए की सरकार के कारण आया है लेकिन देश की राजनीतिक कार्य संस्कृति में परिवर्तन 2014 में श्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के साथ शुरू हुआ। 2014 से पहले देश में किंकर्तव्यविमूढ़ता की सी स्थिति थी। देखेंगे, सोचेंगे, करेंगे, ये नहीं हो सकता – इस तरह की सोच लोगों में घर कर गई थी लेकिन प्रधानमंत्री जी ने देश की सोच में परिवर्तन लाते हुए संदेश दिया कि हम करेंगे, ये हो सकता है और होगा।
श्री नड्डा ने कहा कि 2014 से पहले किसने 18,000 गाँवों और ढाई करोड़ घरों में बिजली पहुंचाने से मना किया था, किसने एलईडी बल्ब का वितरण करने से मना किया था, किसने महिलाओं को गैस कनेक्शन देने से मना किया था, किसने गरीबों का जन-धन एकाउंट खुलवाने से मना किया था? 2014 के बाद देश के गरीबों की चिंता प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने की। गरीबों को आयुष्मान भारत का कवरेज देने की चिंता प्रधानमंत्री जी ने की। आखिर ये सभी योजनायें श्री मोदी जी के आने के बाद ही संभव क्यों हुई? इसका अर्थ यह है कि यदि नेतृत्व सशक्त हो, जन-कल्याण की भावना हो तो असंभव भी संभव हो सकता है।
कोरोना की लड़ाई का जिक्र करते हुए भाजपा अध्यक्ष श्री नड्डा ने कहा कि जब पूरी दुनिया समझ नहीं पा रही थी कि कोविड के खिलाफ किस तरह आगे बढ़ें, तब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने मानव कल्याण के साथ-साथ अर्थव्यवस्था को भी मजबूत करने का मंत्र दिया। उनहोंने कहा कि मार्च में जहां हमारी टेस्टिंग कैपिसिटी महज 1,500 प्रति दिन की थी, वहीं आज रोजाना 11 लाख से अधिक टेस्ट हो रहे हैं। वर्तमान में 1,653 डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल हैं, 12 लाख डेडिकेटेड कोविड बेड्स हैं, 50 हजार वेंटीलेटर्स बेड हैं और तीन लाख से अधिक वेंटीलेटर्स का निर्माण हुआ है। अब हम फेस कवर और पीपीई किट्स का निर्यात भी कर रहे हैं। आत्मनिर्भर भारत अभियान को रेखांकित करते हुए श्री नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा देश के उद्यमियों को प्रेरित करने के लिए आत्मनिर्भर भारत का शुभारंभ किया था।

उन्होंने कहा कि मुझे इस बात की ख़ुशी है कि बिहार प्रदेश भाजपा ने प्रधानमंत्री जी के मंत्र को आत्मसात करते हुए ‘आत्मनिर्भर बिहार’ अभियान की शुरुआत की है जो राज्य की तस्वीर और तकदीर, दोनों बदलेगा। 20 लाख करोड़ रुपये की योजना से देश के आत्मनिर्भर बनने की नींव रखने का काम प्रधानमंत्री जी ने किया है। एमएसएमई के लिए तीन लाख करोड़ रुपये के कोलेटरल फ्री लोन की व्यवस्था की गई जिसमें से लगभग डेढ़ लाख करोड़ रुपये सेक्शन भी हो चुके हैं। कृषि इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए एक लाख करोड़ रुपये का फंड रखा गया है। लगभग 50 लाख स्ट्रीट वेंडर्स के लिए दस – दस हजार रुपये की आर्थिक सहायता जारी की गई है। युवा मोर्चा और किसान मोर्चा इस संदर्भ में आगे आयें और सरकार की योजनाओं और जनता के बीच धुरी का काम करें। हमें ‘वोकल फॉर लोकल’ अभियान को सफल बनाना है और बिहार के मखाना, लीची, मधुबनी पेंटिंग जैसे लोकल उत्पादों को आगे बढ़ाना है। भारतीय जनता पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को ‘आत्मनिर्भर बिहार’ का दूत बनना है।
राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि हमारे पास नेता भी है, नीति भी है और कार्यक्रम भी। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में भाजपा, जद (यू) और एलजीपी का एनडीए गठबंधन एकजुट होकर चुनाव लड़ेगी और विजयी होगी। बिहार की जनता ने राज्य में पुनः एनडीए सरकार बनाने का मन काफी पहले ही बना लिया है। अब यह हमारी जिम्मेवारी है कि हम बिहार को आत्मनिर्भर बनाएं और राज्य को सर्वोत्तम प्रदेश के रूप में प्रतिष्ठित करें। जब बिहार के लोग बाहर जाकर देश की तस्वीर बदल सकते हैं तो फिर बिहार की तस्वीर कैसे नहीं बदल सकती? देश और दुनिया के अलग-अलग भाग में, हर जगह बिहार के युवा अपनी मेहनत और परिश्रम से अलग पहचान बना रहे हैं। हमें बिहार की इस मेधा शक्ति को आधार बना कर नए बिहार का निर्माण करना है। बिहार उद्यमी है, नया सोच लेकर आगे बढ़ने वाला प्रदेश है। इसी बिहार की धरती से जेपी आंदोलन के माध्यम से क्रांति की मशाल जलाई गई थी।
श्री नड्डा ने कहा कि मेरी राजनीतिक चेतना की कर्मभूमि और प्रेरणा बिहार की धरती ही है। मैं यहाँ पला-बढ़ा हूँ। हमारे कार्यकर्ताओं ने कोरोना संक्रमण के ‘लॉकडाउन’ काल में भी हर बूथ पर जरूरतमंदों की मदद की है और ‘सेवा ही संगठन’ के पार्टी के मंत्र को साकार किया है। मैं परिश्रम की पराकाष्ठा करने वाले पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को हृदय से धन्यवाद देता हूँ।
इस अवसर पर किये गये अपने संबोधन में उप मुख्यमंत्री श्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि हमारी प्रथम, द्वितीय और तृतीय प्राथमिकता विकास, विकास और विकास है और इस बार  45 साल महागठबंधन की सरकार बनाम 15 साल एनडीए की लड़ाई है । हमने को कहा वह पूरा किया। बिज़ली सड़क  पानी सात निश्चय के तहत गांव गांव पहुंचाने का काम किया है । डॉक्टर श्रीकृष्ण सिंह उर्फ श्री बाबू काल में  विकास हुआ था । लेकिन 1961 _ 1990 के बीच 29 साल में 23 मुख्यमंत्री बने और 3 बार राष्ट्रपति शासन लगा। 1990-2005 पति पत्नी की सरकार वाले आज कल बेरोजगारी का बात करते है 2005 से पहले सिर्फ 95 हजार लोगों को सरकारी नौकरी मिली जबकि पिवहले 15 वर्षों में 6 लाख 8 हजार लोगों को सरकारी सरकारी नौकरी मिली है। उन्होंने कहा कि विपक्ष अब वैश्विक महामारी कोरोना और बाढ़ की चर्चा करना भूल गया है। उन्होंने चुनोती दी कि विरोधी दल जिस मुद्दे में चुनाव लड़ेगा हम तैयार है ।
भाजपा के  प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जयसवाल ने कहा कि एक समय था जब केन्द्र से एक रूपये चलता था तो 15 पैसे लाभार्थियों तक पहुँचता था । आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार आने के बाद से एक रूपया चलता है तो डीबीटी के माध्यम से एक रूपया पहुंच रहा है । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि पूर्वांचल की तरक्की के बिना देश का विकास नहीं नहीं होगा।  इसी क्रम में हर झोपड़ी घर बिजली पहुंचा कर पढ़ने वाले बच्चों के बीच बिजली व्यवधान ना हो आज 24 घंटों में 20-22 घंटे बिजली पहुंचाने एवं मां बहनों स्वास्थ की सुरक्षा के लिए फ्री में गैस पहुंचाने का कार्य करने का कार्य किया है । आने वाले दिनों में मैं डॉ होने के नाते विश्वास से कहता हूँ कि स्वास्थ्य विभाग का सर्वे रिपोर्ट आयेगा तो ट्यूबरक्लोसिस और आंख से संबंधित रोगों में कमी आयेगी ।डॉक्टर जायसवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का 20 हजार करोड़ रूपये का आर्थिक पैकेज  बिहार को आत्मनिर्भर बनने में मील का पत्थर साबित होगा और हम बिहारी रोजगार लेने वाले नहीं बल्कि देने वाले बनेंगे।

मंच संचालन पार्टी के महामंत्री डॉक्टर संजीव चौरसिया ने किया जबकि प्रदेश मुख्यालय प्रभारी  सुरेश रूंगटा ने आत्मनिर्भर बिहार बनाने की शपथ दिलाई। कार्यक्रम मे राज्य के विभिन्न क्षेत्रों से आये परंपरागत उपहार मंचासीन नेताओं को दिए गए। आयोजन में उद्योग, व्यापार, कला, चिकित्सा, समाजसेवा, साहित्य के क्षेत्र की प्रमुख हस्तियां पद्मश्री डॉक्टर शांति राय, डॉक्टर शांति जैन, विमल जैन, डॉक्टर जेके सिंह, डॉक्टर सहजानंद सिंह, केपीएस केसरी, रामलाल खेतान, सत्यजीत सिंह, प्रमोद शर्मा, संजय उपाध्याय, प्रभात सिन्हा आदि उपस्थित थे।

 

 

LEAVE A REPLY