कोविड-19,पचास लाख से अधिक सैंपल्स-जांच,एक्टिव मरीजों की में लगातार कमी

250
0
SHARE

संवाददाता.पटना.वीडियो कॉंन्फ्रेसिंग के माध्यम से मीडिया के साथ संवाद में सचिव सूचना एवं जन-सम्पर्क अनुपम कुमार एवं सचिव जल संसाधन संजीव हंस ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं विभिन्न नदियों के जलस्तर को लेकर सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों के संबंध में अद्यतन जानकारी दी। साथ ही अपर पुलिस महानिदेशक, पुलिस मुख्यालय ने कोविड-19 से निपटने के लिये उठाये जा रहे कदमों के संबंध में प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से जानकारी दी।

सचिव, सूचना एवं जन-सम्पर्क अनुपम कुमार ने बताया कि कोविड-19 की वर्तमान स्थिति को लेकर पूरे तौर पर सरकार सजग है और सभी आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। बिहार का रिकवरी रेट आज की तिथि में 90.96 प्रतिशत है, जो राष्ट्रीय औसत से लगभग 13 प्रतिशत अधिक है। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण से पिछले 24 घंटे में 1,514 लोग स्वस्थ हुए हैं और अब तक 1,46,533 लोग कोविड-19 संक्रमण से स्वस्थ हो चुके हैं। विगत 24 घंटे में कोविड-19 के 1,575 नये मामले सामने आये हैं। वर्तमान में बिहार में कोविड-19 के 13,731 एक्टिव मरीज हैं। उन्होंने बताया कि बिहार में एक्टिव मरीजों की संख्या लगातार कम हो रही है। स्थिति में काफी सुधार हो रहा है। बिहार ने 50 लाख सैंपल्स की जांच का आंकड़ा पार कर लिया है। 14 सिंतबंर को 1,07,492 सैंपल्स की जांच की गई है और अब तक की गयी कुल जांच की संख्या 50,94,239 है।

अनुपम कुमार ने बताया कि रोजगार सृजन पर भी सरकार का विशेष ध्यान है और लॉकडाउन पीरियड से लेकर अभी तक 05 लाख 60 हजार 490 योजनाओं के अंतर्गत 15 करोड़ 29 लाख से अधिक मानव दिवसों का सृजन किया जा चुका है।

सचिव जल संसाधन संजीव हंस ने बताया कि पिछले दो तीन दिनों के अंदर राज्य की मुख्य नदियों के जलग्रहण क्षेत्र में अधिकतर जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश हुयी है, जबकि तीन जगहों पर मध्यम से भारी बारिश हुई है। गंडक के जलग्रहण क्षेत्र में तीन चार जगहों पर 120-130 एम0एम0 बारिश हुई है, जिसके कारण गंडक नदी में राइजिंग ट्रेंड देखा गया है लेकिन स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। इसी प्रकार से बागमती और कमला बलान नदी के नेपाल स्थित जलग्रहण क्षेत्र में विगत दो दिनों से हल्की से मध्यम वर्षा हुई है, जबकि तीन जगहों पर भारी वर्षा हुई है। आज से बागमती नदी की प्रवृत्ति घटने की है। पिछले 24 घंटे में ढेंग में बागमती नदी के जलस्तर में 44 सेंटीमीटर की कमी आयी है। पिछले दो दिनों से कमला बलान नदी की प्रवृत्ति बढ़ने की थी लेकिन आज से इसकी प्रवृत्ति घटने की है। पिछले 24 घंटे में इसके जलस्तर में 15 सेंटीमीटर की कमी आयी है।

उन्होंने बताया कि कोशी नदी की प्रवृत्ति भी घटने की है। आज दिन के 2 बजे कोशी नदी का जलश्राव 1,70,000 क्यूसेक था। पिछले 24 घंटे में महानंदा के जलग्रहण क्षेत्र के अधिकतर जगहों पर मध्यम से भारी बारिश हुई है। महानंदा नदी की प्रवृत्ति बढ़ने की है। पूर्वानुमान है कि महानंदा का जलस्तर खतरे के निशान को पार करेगा। इसको लेकर महानंदा के जलग्रहण क्षेत्र और इसके आसपास के जिलों को अलर्ट कर दिया गया है। बक्सर से लेकर कहलगांव तक गंगा नदी की प्रवृत्ति घटने की है। पूर्वानुमान के मुताबिक आगामी दो दिनों तक बिहार और नेपाल के क्षेत्रों में हल्की से मध्यम वर्षापात की संभावना व्यक्त की गई है, जबकि गंडक और महानंदा नदी के नेपाल स्थित जलग्रहण क्षेत्र के कुछ जगहों पर मध्यम से भारी वर्षापात का अनुमान है। बिहार राज्य में विभिन्न नदियों पर अवस्थित तटबंध सुरक्षित हैं। जल संसाधन विभाग द्वारा सतत् निगरानी एवं चैकसी बरती जा रही है।

अपर पुलिस महानिदेशक, पुलिस मुख्यालय जितेन्द्र कुमार ने बताया कि सरकार द्वारा 01 सितंबर से लागू अनलॉक-4 के तहत जारी गाइडलाइन्स का अनुपालन कराया जा रहा है। पिछले 24 घंटे में 464 वाहन जब्त किये गये हैं और 13 लाख 06 हजार 400 रूपये की राशि जुर्माने के रुप में वसूल की गई है। इस दौरान कोई कांड दर्ज नहीं किया गया है और किसी व्यक्ति की गिरफ्तारी भी नहीं हुई है। इस प्रकार 1 सितंबर से अब तक 14 कांड दर्ज किये गए हैं और 56 व्यक्तियों की गिरफ्तारी हुई है। कुल 7,094 वाहन जब्त किए गए हैं और करीब 02 करोड़ 29 लाख 74 हजार 700 रुपए की राशि जुर्माने के रूप में वसूल की गयी है। उन्होंने बताया कि सार्वजनिक स्थानों पर मास्क नहीं पहनने वाले लोगों पर भी लगातार कार्रवाई की जा रही है। पिछले 24 घंटे में मास्क नहीं पहनने वाले 4,364 व्यक्तियों से 02 लाख 18 हजार 200 रूपये की राशि जुर्माने के रूप में वसूल की गयी है। इस प्रकार 01 सितंबर से अब तक मास्क नहीं पहनने वाले 81,271 व्यक्तियों से 40 लाख 63 हजार 550 रूपये की जुर्माना राशि वसूल की गयी है। कोविड-19 से निपटने के लिये उठाये जा रहे कदमों और नए दिशा-निर्देशों का पालन करने में अवरोध पैदा करने वालों के खिलाफ सख्ती से कदम उठाये जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY