बिहार चुनाव- इन पांच कारणों से एनडीए को हो सकता है नुकसान

244
0
SHARE

प्रमोद दत्त.

पटना.बिहार के चुनावी दंगल में मुख्यमंत्री के चेहरे के मामले में नीतीश कुमार को लेकर एनडीए सब पर भारी है लेकिन गठबंधन को लेकर जो द्विविधा एलजेपी  ने  बना रखा है यह चुनाव में एनडीए को नुकसान पहुंचा रहा है.

चुनाव में इन कारणों से एनडीए को नुकसान हो सकता है.

1.जिस प्रकार झारखंड में आजसू से तालमेल टूटने का नुकसान एनडीए को हुआ वही स्थिति लोजपा से गठबंधन टूटने का नुकसान बिहार में हो सकता है.लोजपा के कारण लगभग हर क्षेत्रों में एनडीए समर्थकों में द्विविधा की स्थिति है.

2.15 वर्षों से लगातार शासन करने वाले नीतीश कुमार को एंटीइनकम्बेंसी का सामना करना पड़ रहा है.रोड,पुल,बिजली से संबंधित विकास पर बेरोजगारी का मुद्दा हावी हो रहा है और शराबबंदी को फ्लॉप बताकर सरकार की आलोचना की जा रही है.

  1. 15 वर्षों के जंगल-राज का एनडीए के मुद्दे का बेअसर होना.युवा मतदाताओं पर इसका असर नहीं होना.

4.लॉकडाउन में बिहार लौटे मजदूरों के सामने रोजगार की समस्या और उसपर बढती मंहगाई.

  1. कोरोना काल में मतदान भी एनडीए को नुकसान पहुंचा सकता है.एनडीए और महागठबंधन की सभाओं में जुटने वाली भीड़ बता रही है कि एनडीए समर्थकों में जहां कोरोना का भय है वहीं महागठबंधन के समर्थक कोरोना से भयमुक्त नजर आ रहे हैं.इस भय का प्रभाव मतदान पर रहा तो एनडीए को नुकसान हो सकता है.

LEAVE A REPLY