राष्ट्रीय पुस्तक मेला में आचार्य सुदर्शन ने कहा,पढना बेहद जरूरी

52
0
SHARE

संवाददाता.पटना.समय इंडिया, नई दिल्ली की ओर से यहां ऐतिहासिक गांधी मैदान में आयोजित 12 दिवसीय राष्ट्रीय पुस्तक मेला में पुस्तक प्रेमियों के लिए गुरुवार का दिन बेहद शानदार रहा। उन्होंने न सिर्फ अपनी पसंदीदा पुस्तकें खरीदीं, बल्कि राज-ऋषि आचार्य सुदर्शन जी महाराज से आशीर्वाद भी प्राप्त किया। आचार्य श्री ने मेला परिसर में उपस्थित लोगों से सोशल मीडिया पर कम समय व्यतीत करने और पुस्तकें पढ़ने का आह्वान किया। बाल दिवस होने की वजह से गुरुवार को सुबह से ही स्कूल-कालेज के सैकड़ों विद्यार्थियों का मेला में आना-जाना लगा रहा। पूरे दिन मेला परिसर बच्चों की विभिन्न गतिविधियों से गुलजार रहा।

जगत प्रसिद्ध धर्मगुरु ऋषि-राज आचार्य सुदर्शन जी महाराज गुरुवार को पुस्तक मेला में पधारे। यहां डायमंड पाकेट बुक्स के स्टाल पर उनका जोरदार स्वागत किया गया। आचार्य श्री ने यहां उपस्थित सैकड़ों पुस्तक प्रेमियों को पुस्तकें पढ़ने की आदत डालने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि आज अधिकांश लोग सोशल मीडिया पर अधिक समय बिताते हैं। इससे परिवार में विघटन हो रहा है। एक ही घर में रहकर भी हम आपस में संवाद नहीं कर पाते। हमें इससे बचना चाहिए। उन्होंने कहा कि न्यूज चैनल पर आप जो कुछ देखते-सुनते हैं, उसे कुछ ही समय में भूल जाते हैं। जबकि पुस्तकों में आप जो पढ़ते हैं, वह वर्षों तक याद रहता है। अतः आप पुस्तकें जरूर पढ़ें।

मेला में पधारे आचार्य सुदर्शन जी महाराज का जयप्रकाश भारती सभागार में जोरदार स्वागत किया गया। आयोजकों की ओर से वरिष्ठ पत्रकार और मेला के मीडिया प्रभारी अशोक प्रियदर्शी ने पुष्प गुच्छ और अंग वस्त्र देकर उनका सम्मान किया। इस मौके पर आचार्यश्री ने अपने उद्बोधन में कहा कि पुस्तक पढ़ने से तनाव कम होता है। उन्होंने कई दृष्टांत देते हुए कहा कि मैं आज आप लोगों के बीच बोल पाता हूं तो इसकी वजह अध्ययन है। छात्र जीवन में मैं 12-14 घंटे पढ़ा करता था।

समय इंडिया के प्रबंध न्यासी चंद्र भूषण ने बताया कि गुरुवार को बाल दिवस होने की वजह से मेला में विद्यार्थियों की संख्या बहुत ज्यादा रही। लिहाजा, प्रतियोगिता परीक्षाओं की किताबों के स्टाल पर खूब भीड़ रही। दूसरी ओर, अनेक स्कूलों के विद्यार्थियों की गतिविधियां भी चलती रहीं। श्री रामलखन सिंह यादव सर्वोदय उच्च माध्यमिक विद्यालय, पुनाईचक, पटना की 11 छात्राएं मेला परिसर पहुंचीं। इनका चयन बिहार शिक्षा परियोजना के तहत हुआ है।

स्वयंसेवी संस्था चाइल्ड लाइन के बच्चे भी गुरुवार को मेला में पहुंचे। बच्चों ने चाइल्ड लाइन के समन्वयक प्रवीण कुमार मधु और जीतेंद्र सिंह के निर्देशन में मेला में उपस्थित लोगों को जागरूक किया। ये बच्चे एवरग्रीन पब्लिक स्कूल, गोला रोड से आए थे। बच्चों ने स्लोगनों आदि के माध्यम से लोगों को हेल्पलाइन नंबर 1098 के बारे में बताया और लोगों से अपील की कि वे यदि कहीं बच्चों के प्रति हिंसा होता हुआ देखें तो हमें सूचित करें।

मेला की प्रबंधक दीपा कुमारी ने बताया कि शुक्रवार को मेला परिसर में बच्चों की नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन रखा गया है। इसमें भाग लेने के इच्छुक बच्चे कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि मेला में देश के अनेक नामचीन प्रकाशक आए हुए हैं। इनमें नेशनल बुक ट्रस्ट और प्रकाशन विभाग, भारत सरकार के अलावा बिहार राष्ट्रभाषा परिषद्, डायमंड पाकेट बुक्स, साइंटिफिक एंड इन्स्ट्रूमेंटल पब्लिशर्स, सस्ता साहित्य मंडल समेत करीब 80 प्रकाशक और वितरक शामिल है।

 

 

LEAVE A REPLY