नमो नीतियों से पूरे विश्व में सस्ता हुआ कोरोना का टीका- संजय जायसवाल

0
SHARE

संवाददाता.पटना. कोरोना टीकाकरण का दायरा बढाए जाने के लिए प्रधानमन्त्री मोदी व बिहार में इसे निशुल्क रखने के लिए राज्य सरकार का आभार प्रकट करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने कहा कि कोरोना के खिलाफ टीकाकरण ही सबसे प्रभावी हथियार है. ऐसे में 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाये जाने का निर्णय न केवल इस महामारी के प्रभाव को काम करेगा, बल्कि यह पूरे देश के लिए एक तरह का कोरोना कवच साबित होगा.
बिहार सरकार की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि बिहार की जनता से अपने किये वादे के तहत राज्य की एनडीए सरकार ने 18 वर्ष से अधिक आयु वाले लोगों के लिए भी टीकाकरण की प्रक्रिया को निशुल्क रखा है. याद करें तो आज से तकरीबन एक साल पहले जब हमने अपने चुनावी संकल्प पत्र में यह वादा किया था, उस समय केवल फाईजर की वैक्सीन ही विकसित हो पायी थी, जिसका मूल्य लगभग 2700 रु था. एनडीए तब भी बिहार वासियों को यह सुविधा निशुल्क देने के लिए तैयार थी. लेकिन बाद में हमारे वैज्ञानिकों की मेहनत और केंद्र सरकार की नीतियों से देश ने दुनिया में सबसे सस्ते टीके तैयार कर देश के अरबों रु सफलतापूर्वक बचा लिए, जिनका उपयोग स्वास्थ्य सुविधाओं को और मजबूत करने में किया जा रहा है.
डॉ जायसवाल ने कहा कि सस्ते भारतीय टीकों के कारण आज दुनियाभर के कोविद टीकों के उत्पादकों को अपने टीकों का मूल्य कम करना पड़ रहा है. जो फाइजर अपने टीके 2700 रु में बेच रही थी आज उसका मूल्य गिर कर 900 रु तक आ गया. यह दिखाता है कि भयावह महामारी के इस दौर में नमो नीतियों से न केवल देश बल्कि दुनिया के दुसरे मुल्क के निवासी भी लाभान्वित हो रहे हैं.
लोगों से टीका लेने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना टीके को लेकर कई पार्टियों के बयानबहादुर नेता और तथाकथित बुद्धिजीवी कई तरह की अफवाहें फैला रहे हैं. लेकिन स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों को देखें तो इन टीकों का फायदा स्वत: दिख जाता है. आंकड़ों के मुताबिक देश में टीका नहीं लेने वालों में पॉजिटिविटी रेट काफी ज्यादा है, जबकि कोवैक्सीन और कोविशील्ड वैक्सीन लेने वालों में यह दर महज 0.04 और 0.03 प्रतिशत है. वह भी सिर्फ इसलिए कि टीका लेने के बाद शरीर में प्रतिरोधी क्षमता आने में कुछ वक्त लगता है, इसलिए टीका लेने वालों को भी जरूरी सावधानियों का पालन करने के लिए कहा जाता है. इसीलिए मेरी सबसे अपील है कि अपनी बारी आने पर टीका अवश्य लगवाएं तथा दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें.

 

 

LEAVE A REPLY