बिहार में लगा नाईट कर्फ्यू,स्कूल कॉलेज 15 मई तक बंद,जाने..क्या है नया गाईडलाइन

0
SHARE

संवाददाता.पटना.कोरोना के बढते संक्रमण को देखते हुए पूरे बिहार में नाईट कर्फ्यू लागू किया गया.यह कर्फ्यू रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक रहेगी.इसके अलावा स्कूल, कॉलेज,शिक्षण संस्थान,सभी धार्मिक स्थल,सिनेमा हॉल,जिम,पार्क,मॉल को 15 मई तक बंद करने का आदेश दिया गया.स्कूल,कॉलेज स्तर के सभी परीक्षाओं पर लगी रोक लेकिन नौकरी से संबंधित प्रतियोगी सभी परीक्षाएं होंगी.सभी तरह की दूकानें अब शाम 6 बजे तक ही खुलेगी.

सभी जिले के डीएम,एसपी के साथ बैठक और फिर क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से फिड बैक लेने के बाद रविवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह जानकारी पत्रकारों को दी.उन्होंने बताया कि शादी व श्राद्ध समारोह में 100 और दाह-संस्कार में अब 25 लोगों के शामिल होने की अनुमति होगी.इसके अलावा सभी प्रकार के सरकारी गैरसरकारी सार्वजनिक आयोजन पर रोक लगाई गई है.भीड़-भाड़ पर रोक लगाने के लिए सभी डीएम को निर्देश दिया गया है कि आवश्यकतानुसार 144 लागू कर कार्रवाई करेंगें. आपात सेवा को छोड़कर सभी सरकारी गैरसरकारी कार्यालयों में शाम 5 बजे तक ही खुलेगें. नियमित बाजार व मंडियों में लगनेवाली भीड़ को देखते हुए सभी डीएम को कहा गया है कि सिलसिलेवार ढंग से ऐसी मंडियों को अलग अलग व्यवस्था करें.

मुख्यमंत्री ने बताया कि आवश्यक सेवाओं पर किसी प्रकार का प्रतिबंध नहीं होगा.मेडिकल सेवाओं के अलावा निर्माण कार्य,औद्योगिक प्रतिष्ठान,कृषि कार्य, परिवहन सेवाओं पर प्रतिबंध नहीं होगा.रेस्टोरेंट व ढाबा में बैठाकर खिलाने पर प्रतिबंध होगा लेकिन होम डिलेवरी व टेक होम पर रोक नहीं होगा.

मुख्यमंत्री ने बाहर से आनेवालों से अपील की कि अगर वे बिहार वापस आना चाहतें हैं तो जितना जल्दी से जल्दी हो वे वापस आ जाएं.जितना देर करेंगें कठिनाईयां बढेगी.बाहर से आनेवालों के लिए रोजगार की व्यवस्था करनी है.उन्होंने बताया कि बाहर से आनेवालों के लिए अनुमंडल स्तर पर क्वारंटाईन सेंटर का प्रबंध करने का आदेश दिया गया है.इसके अलावा गांव से शहर तक लोगों को जागरूक करने व मास्क आदि का वितरण करने की जिम्मेदारी पंचायती राज विभाग व शहरी विकास विभाग को दी गई है.

लगातार बढते कोरोना मरीजों की संख्या पर चिंता जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने संक्रमण रोकने व इलाज से सबंधित तैयारी की चर्चा करते हुए बताया कि आरटीपीसीआर की जांच रिपोर्ट जो 3-4 दिनों में मिलता था इसे ससमय प्राप्त होने की व्यवस्था की गई है ताकि ससमय इलाज किया जा सके.ग्रामीण व शहरी इलाके में संक्रमण रोकने के लिए चिन्हित क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन बनाकर इस जोन के मरीजों के इलाज की पूरी व्यवस्था की जा रही है.इसके अलावा सभी आवश्यक दवाएं,ऑक्सीजन,बेड आदि के प्रबंध के लिए प्रोटोकॉल बना दिया गया है.मुख्यमंत्री ने कहा कि क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ प्रतिदिन समीक्षा की जाएगी और आगे जो भी आवश्यक होगा कार्रवाई की जाएगी.

LEAVE A REPLY