जो शराब बेचता है,शराब का धंधा करता है,उसको पकड़िए- नीतीश कुमार

73
0
SHARE
liquor business

संवाददाता.पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हमने अपने अधिकारियों से कहा है कि गरीब गुरबा को मत पकड़िए, जो शराब बेचता है, जो शराब का धंधा करता है उसको पकड़िए। गरीब गुरबा लोगों से हम कहेंगे कि ऐसे कामों में न लगें वो अपना अलग काम करें, इसके लिए हमलोग एक लाख रुपया देने के लिए तैयार हैं। जरुरत पड़ेगी तो राशि को और बढ़ाएंगे लेकिन कभी किसी को इस धंधा में नहीं लगना चाहिए।
सारण जिला में जहरीली शराब से हुई मौत मामले पर पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में शराबबंदी का कानून लागू किया गया है। पूरी दुनिया से जो रिसर्च की रिपोर्ट आयी थी उसको भी हमने सबके घर पर भेज दिया है, कि शराब कितनी बुरी चीज है, इसे पीने से कितने लोगों की मौत होती है। जहरीली शराब से देशभर में लोग शुरु से मरते हैं। जब बिहार में शराबबंदी नहीं थी, तब भी जहरीली शराब से लोग मरते थे। अन्य राज्यों में भी जहरीली शराब से लोग मरते हैं। शराबबंदी लागू करने के समय वर्ष 2016 में ही जहरीली शराब पर बातें हुई थी, उसके बाद हमलोगों ने ऐक्शन लिया था। लोगों को जहरीली शराब से सचेत रहना चाहिए। यहां शराबबंदी है, कुछ लोग गड़बड़ शराब बेचते हैं, जिससे लोगों की मौत हो जाती है। इसलिए सभी को याद रखना है कि शराब नहीं पीना है, शराब बहुत बुरी चीज है लेकिन फिर भी कुछ लोग पीते हैं। ज्यादातर लोगों ने शराबबंदी के पक्ष में अपनी सहमति दी है। कुछ लोग ऐसी गलती करते ही रहते हैं। पिछली बार भी जहरीली शराब पीने से कई लोगों की मौत हो गई थी, तो कुछ लोगों ने कहा था इनको कंपनशेसन मिलना चाहिए। जो शराब पीएगा वो तो मरेगा ही ये उदाहरण तो आपके सामने है।
उन्होंने कहा कि इसके बारे में तो दुख प्रकट करना चाहिए और उन जगहों पर जाकर समझाना चाहिए। हमलोगों ने समाज सुधार अभियान चलाया और उसको निरंतर जारी रखे हुए हैं। लोगों को समझाइये, बताइये कि शराब खराब चीज है।हमने शराबबंदी बिहार की महिलाओं के कहने पर लागू किया है। महिला और पुरुष शराबबंदी को लेकर काफी सक्रिय रहते हैं शराबबंदी के समय हमने कहा था कि पटना में शराबबंदी कुछ दिनों के बाद लागू करेंगे। इसको लेकर बड़ी संख्या में लोगों ने प्रदर्शन किया। पांच दिन के अंदर ही हमलोगों ने वर्ष 2016 में पूर्ण शराबबंदी लागू कर दिया था। शराबबंदी के क्रियान्वयन को लेकर समय-समय पर समीक्षा की जाती है, दोषी लोगों पर ऐक्शन लिया जाता है, कार्रवाई की जाती है। कार्रवाई करनेवालों को हम हमेशा कहते हैं कि जो असली गड़बड़ी करनेवाला है उसको पकड़ना है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हम तो सारे लोगों से कहते हैं कि इसको देखते रहिए कितनी खराब बात है कि इतने लोगों की जहरीली शराब से मौत हुई है। इस घटना की जांचकर दोषियों पर ऐक्शन लिया जायेगा। इस तरह की घटना को सभी देख रहे हैं उसके बाद भी लोगों को समझाना है कि अगर शराब पीते हैं, तो क्या अंजाम होता है। कल कुछ लोग बोल रहे थे तो हमने कहा कि आपलोगों ने भी शराबबंदी के पक्ष में नारा लगाया था। अगर शराब पीकर कहीं कोई मर जाता है तो यह दुखद है, इस बात को सबको समझाना चाहिए । मृतकों के परिजनों को पैसा दीजिए, कहीं-कहीं से ऐसा बयान देख रहे हैं। दिल्ली में भी हाउस में कुछ लोग कह रहे हैं कि बिहार में शराबबंदी अब बेकार हो गया है। सारे दलों के लोगों ने मिलकर शराबबंदी के पक्ष में शपथ लिया था, फिर लोग कैसे कुछ कह रहे हैं। समाज में आप कितना भी कुछ काम कीजिएगा कुछ न कुछ तो गड़बड़ करेगा ही। क्राइम को रोकने के लिए कितना पहले से कानून बना हुआ है तब भी हत्या हो रही है।
विपक्ष द्वारा शराबबंदी मामले पर राजनीति किए जाने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वो गलत कर रहे हैं। आप सोच लीजिए ये राजनीति है, ये तो बुरी चीज है। भाजपा कह रही है शराबबंदी कानून से कुछ फायदा नहीं है। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि शराबबंदी कानून से बहुत लोगों को फायदा हो रहा है। कितनी बड़ी संख्या में लोगों ने शराब पीना छोड़ दिया है। सब्जी, फल वगैरह की बड़े पैमाने पर बिक्री हो रही है। गरीब गुरबा तबके के लोग अब अपने बच्चों को पढ़ाने लिखाने लगे हैं।
शराबकांड में आरोपियों पर कार्रवाई होने को लेकर पूछे गए सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरी तरह से आरोपियों पर ऐक्शन लिया जाएगा। हमने इसमें कहा है कि जो गड़बड़ कर रहा है उसको आइडेंटिफाई करके उसको पकड़िए। अगर किसी के बहकावे में आकर कोई कुछ करता है तो उसको समझाना है। विपक्ष के जो लोग बोलते हैं कि जहरीली शराब से लोग मरे तो उनसे पूछिए कि आपका जहां-जहां शासन है वहां कितनी जहरीली शराब से लोग मर रहे हैं। इस पर कुछ नहीं बोलते हैं।

 

LEAVE A REPLY