रेलवे भर्ती घोटाला: लालू प्रसाद के करीबी भोला यादव गिरफ्तार

154
0
SHARE
Railway Recruitment Scam

संवाददाता.पटना.रेलवे भर्ती घोटाला को लेकर राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद के करीबी भोला यादव को सीबीआई ने गिरफ्तार किया।पूछताछ के लिए भोला यादव को रिमांड पर लिया गया।इस मामले में पटना सहित 16 स्थानों पर सीबीआई द्वारा छापेमारी की गई।
इस कार्रवाई पर राजद प्रदेश प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा है कि केन्द्रीय एजेंसियों द्वारा आतंक पैदा कर विपक्ष की आवाज को दबाने की साजिश हो रही है। इधर, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा है कि केन्द्रीय एजेंसियां स्वतंत्र हैं। वह सभी आरोपों की जांच कर रही है। जिन पर आरोप है, उनको अपनी बात रखनी चाहिए। गड़बड़ी करने वाले पकड़े जा रहे हैं तो एजेंसियों को बदनाम कर रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि CBI की प्राथमिकी में वैसे कई लोगों को भी नामजद बनाया गया है, जिन्होंने लालू परिवार को जमीन देकर नौकरी हासिल की। जानकारी है कि ये सभी जमीन पटना में ही है। जमीन का कुल रकबा 1,05,292 वर्ग फुट है। सर्किल रेट के अनुसार अभी इसकी कीमत 4,39,80,650 रुपए आंकी गई है।
वर्ष 2004-2009 के दौरान जब लालू यादव देश के रेल मंत्री थे, उस समय भोला यादव उनके ओएसडी थे। बताते हैं कि भोला यादव को ‘जमीन के बदले नौकरी’ वाले मामले में गिरफ्तार किया गया है। रेलवे भर्ती घोटाला वर्ष 2004 से 2009 के बीच का है। आरोप यह है कि लालू प्रसाद जब रेल मंत्री थे तब नौकरी लगवाने के बदले जमीन लिया गया था। इस मामले में 18 मई को CBI ने लालू यादव, राबड़ी देवी, मीसा भारती और हेमा यावद समेत अन्य के खिलाफ FIR दर्ज किया था। मई माह में ही लालू प्रसाद, राबड़ी देवी, मीसा भारती आदि के 17 ठिकानों पर CBI ने छापेमारी की थी।
सुशील मोदी का आरोप-
लालू परिवार के 40 से ज्यादा संपत्ति की खरीद में भोला यादव ने गवाह के रूप में हस्ताक्षर किया है।
हृदयानंद चौधरी रेलवे के खलासी ने अपनी 70 लाख की जमीन हेमा यादव को दान कर दी।
पूर्व उपमुख्यमंत्री व भाजपा सांसद सुशील मोदी ने कहा कि लालू परिवार की 40 से ज्यादा संपत्ति की खरीद-फरोख्त में भोला यादव ने गवाह के रूप में हस्ताक्षर किया है। लालू के साथ साए के रूप में रहने वाले भोला यादव लालू परिवार के हर भ्रष्टाचार में प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से शामिल रहे हैं। कांति सिंह, रघुनाथ झा द्वारा तेजस्वी, तेजप्रताप को गिफ्ट में दिया मकान हो या लालू परिवार की अधिकांश जमीन के दस्तावेजों में भोला यादव ने गवाह के रूप में हस्ताक्षर किया है।
उन्होंने कहा कि रेलवे में नौकरी के बदले जमीन घोटाले मामले में रेलवे के कोचिंग कंपलेक्स स्टोर, राजेंद्र नगर में खलासी का काम करने वाले हृदयानंद चौधरी ने पटना शहर की 70 लाख 7.6 डिसमिल जमीन लालू प्रसाद की 5वीं बेटी हेमा यादव को दान कर दिया।आखिर एक रेलवे खलासी के पास पटना शहर में 70 लाख की जमीन कहां से आई? फिर उसने लालू परिवार को दान क्यों कर दिया? विष्णु देव राय के पोते पिंटू कुमार को 2008 में पश्चिम रेलवे मुंबई में नौकरी लगी। श्री विष्णु देव राय ने पटना की जमीन हृदयानंद चौधरी को दे दिया और हृदयानंद चौधरी ने कुछ वर्षों बाद वह जमीन हेमा यादव को दान में दे दिया।

 

LEAVE A REPLY