बिहार विधान सभा:विपक्ष का प्रस्ताव 89 के मुकाबले 110 मतों से नामंजूर

367
0
SHARE

संवाददाता.पटना.विधान मंडल सत्र के तीसरे दिन बुधवार को भी राजद के अधिकांश सदस्य हेलमेट और काला मास्क पहनकर पहुंचे।विपक्ष के विधायक 23 मार्च को विधायकों के साथ हुई मारपीट की घटना के विरोध में विधान सभा कार्यवाही का बहिष्कार कर रहे हैं।इससे पूर्व बिहार अभियंत्रण विश्वविद्यालय विधेयक पर विपक्ष के संशोधन प्रस्ताव पर मतदान की स्थिति बनी और विपक्ष का प्रस्ताव 89 के मुकाबले 110 मतों से नामंजूर कर दी गई।

हालांकि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की मांग पर बुधवार को विधान सभा में 23 मार्च की घटना पर बहस भी हुई।बहस में हिस्सा लेते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि उस घटना के मामले में सिर्फ दो सिपाही सस्पेंड किए गए हैं।क्या दो सिपाही विधायकों को पीट सकते हैं।उन अफसरों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए जो विधायकों को निर्दयतापूर्ण तरीके से बाहर ले जा रहा था।पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने सदन में हुई उस घटना को निंदनीय बताया।बहस में हिस्सा लेते हुए कांग्रेस के अजीत शर्मा और एआईएमआईएम के अख्तारूल इमाम ने विधायकों के सम्मान के साथ खिलवाड़ बताया।

इससे पहले बिहार अभियंत्रण विश्वविद्यालय विधेयक 2021 पर विपक्ष की ओर से लाए गए प्रस्ताव पर वोटिंग हुई। जिसमें विपक्ष को 89 और सत्ता पक्ष को 110 वोट मिले। विपक्ष की हार हो गई। विधानसभा में जनसंख्या नियंत्रण का मामला भी बुधवार को उठा। भाजपा और जदयू विधायकों ने सरकार से दो बच्चों के प्रावधान वाले कानून को लागू करने की मांग की है। सरकार ने उत्तर देने के लिए समय मांगा है। विधानसभा की कार्यवाही दोबारा शुरू होते ही हंगामा शुरू हो गया है। इससे पहले विजय सिन्हा की अध्यक्षता में कार्य मंत्रणा की बैठक भी हुई। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, डिप्टी सीएम, संसदीय कार्य मंत्री, समेत विपक्ष के कई विधायक मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY