गोपालगंज एयरपोर्ट से उड़ान की मंजूरी,वर्षों पुरानी मांग हुई पूरी

181
0
SHARE

संवाददाता.पटना. बिहार को आत्मनिर्भर बनाने के तहत मोदी सरकार ने बिहार खासकर गोपालगंज को एक बड़ी सौगात दी है.हालिया लिए गये निर्णय में केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय ने सबेया हवाई अड्डा को रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम ‘उड़े देश का आम नागरिक’ में शामिल कर लिया है.इस योजना के तहत सबेया हवाई अड्डा को मंजूरी मिलने से इस हवाई अड्डा से जल्द ही हवाई यातायात शुरू हो जाएगा. इस हवाई अड्डा के चालू होने से गोपालगंज और उसके आस-पास के जिलों के लोगों को यहां से उड़ान भरने का वर्षों पुराना सपना साकार हो जाएगा.यह जानकारी देते हुए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने बिहार के हित में लिए गये इस निर्णय के लिए प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जी व केंद्रीय नागर विमानन मंत्री जी को कोटि कोटि धन्यवाद दिया है.


उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का यह निर्णय नागरिक सुविधाओं में बढ़ोतरी के साथ-साथ बिहार के विकास को और गति देगा. गौरतलब हो कि बिहार में सबसे ज्यादा विदेशी मुद्रा गोपालगंज और सिवान में आता है. यहां के कई  लोग खाड़ी देशों में काम करने जाते हैं, लेकिन हवाई सुविधा नहीं होने की वजह से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता था. लेकिन अब सबेया एयरपोर्ट के डेवलप होने से और उड़ान स्कीम में शामिल होने से गोपालगंज के अलावा सिवान, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण और यूपी के कई जिलों के लोगों को इसका फायदा मिलेगा.
डॉ जायसवाल ने कहा कि गौरतलब हो कि गोपालगंज के हथुआ प्रखंड स्थित सबेया हवाई अड्डा को चालू कराने के लिए लोग काफी समय से आवाज उठा रहे थे. आजादी के पहले बनी इस हवाइपट्टी का इस्तेमाल द्वितीय विश्वयुद्ध के समय किया गया था. चीन के नजदीक होने के कारण रक्षा के दृष्टिकोण से यह हवाई अड्डा काफी संवेदनशील था. लेकिन आजादी के बाद तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने अपनी आदत के अनुसार इस हवाई अड्डे को ओवरटेक करने के बाद इसे विकसित करने की जगह उपेक्षित छोड़ दिया था. अभी जिले के लोगों को हवाई सफर के लिए उत्तर प्रदेश के गोरखपुर या पटना जाना पड़ता है. लेकिन इस एयरपोर्ट के शुरू हो जाने से खाड़ी देश में आने जाने वाले लोगों को घरेलू स्तर पर ही उड़ान सेवा का लाभ मिलेगा. इससे न केवल जिले में विकास की गति तेज होगी बल्कि इससे स्थानीय पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा.

 

 

LEAVE A REPLY