मुख्यमंत्री ने निर्माणाधीन ‘प्रकाश पुंज’ सहित विभिन्न स्थलों का किया निरीक्षण

297
0
SHARE
Prakash Punj

संवाददाता.पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना साहिब के गुरु के बाग में बन रहे ‘प्रकाश पुंज’ का निरीक्षण किया।साथ ही गुलजारबाग प्रेस भवन परिसर, बीएनआर टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज का भी किया निरीक्षण।उन्होंने बहुद्देशीय प्रकाश केंद्र एवं उद्यान परियोजना का निरीक्षण किया और अधिकारियों से निर्माण कार्य से संबंधित जानकारी ली और अधिकारियों को निर्माण कार्य जल्द पूरा करने का निर्देश दिया।
निरीक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री कहा कि प्रकाश पुंज परिसर के चारो तरफ चयनित वृक्षों का रोपण कराया जाए। इसके मुख्य द्वार के सामने के तालाब के चारो तरफ पेवर ब्लॉक से रास्ते का निर्माण कराया जाए, जिससे टहलने में सहुलियत हो। इसके अलावा तालाब के बाद रेलवे लाइन है, सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए तालाब के बाहर चहारदीवारी का भी निर्माण कराया जाए। प्रकाश पुंज परिसर के बाहरी क्षेत्र में भी सड़क का निर्माण कराया जाए ताकि पर्यटकों और स्थानीय लोगों को सुविधा हो। मुख्यमंत्री ने ‘प्रकाश पुंज’ के बगल में बनाए जा रहे पर्यटकों के ठहरने के लिए ‘प्रकाश भवन’ का भी निरीक्षण किया।
निरीक्षण के पश्चात मुख्यमंत्री के समक्ष ‘प्रकाश पुंज’ पर प्रस्तुतीकरण भी दिया गया, जिसमें साइड प्लानिंग और जोनिंग प्लान, एक्जिविट एंड कॉन्टेंट प्लानिंग, ओरियेंटेशन पैनल आदि के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई। प्रस्तुतीकरण के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2017 में गुरु गोविंद सिंह जी महाराज के 350वीं जयंती के अवसर पर आयोजित प्रकाश पर्व को लेकर बिहार की प्रशंसा पूरे देश में हुई थी। यहां जो भी प्रदर्शनी की योजना बनायी गई है उसके एक हिस्से में प्रथम से लेकर 10वें गुरु तक से संबंधित जानकारी दें। दूसरे हिस्से में प्रथम गुरु गुरुनानक साहब, 9वें गुरु तेगबहादुर साहब और 10वें गुरु गोविंद सिंह जी महाराज के संबंध में जानकारी दें। इन तीनों गुरुओं का बिहार से विशेष संबंध रहा है। इनसे जुड़े स्थलों को भी दर्शाया जाए। तीसरे हिस्से में  वर्ष 2017 में 350वें प्रकाश पर्व के आयोजन से जुड़ी बातें एवं बिहार में गुरु से जुड़े कार्यों तथा स्थलों एवं सिख श्रद्धालुओं के लिए कार्यों को भी दर्शाएं।
निर्माणाधीन प्रकाश पुंज भवन के निरीक्षण के पश्चात् पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2017 में जिस तरह से गुरु गोविंद सिंह जी महाराज की 350वीं जयंती के अवसर पर बहुत ही अच्छे ढंग से प्रकाश पर्व का आयोजन किया गया था। उसी समय यह तय हो गया था कि हमलोग इस जगह पर भवन का निर्माण करेंगे। भवन तो बन गया लेकिन इसमें जितनी मूर्तियां लगनी हैं और जिन चीजों को रखवाना है, अभी तक वह काम पूरा नहीं हुआ है। आज हमने यहां आकर इसकी वर्तमान स्थिति का जायजा लिया है। हमलोगों ने जो शुरू में तय किया था, इसे लेकर अधिकारियों को आज पुनः दिशा निर्देश दिया गया है। हमारा लक्ष्य है कि इस साल के अंत तक यह काम पूरा हो जाय। यह बहुत ही सुंदर होगा।
गुलजारबाग प्रेस भवन परिसर का किया निरीक्षण
इसी क्रम में  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुलजारबाग प्रेस भवन परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने पुरातात्विक खुदाई को लेकर विशेषज्ञों एवं अधिकारियों के साथ कई बिंदुओं पर चर्चा की और आवश्यक निर्देश दिए।
निरीक्षण के पश्चात पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पाटलिपुत्र यही है जो पटना साहिब कहलाता है। पुरातात्विक खुदाई को लेकर यहां से लोगों को विस्थापित करना संभव नहीं है। हमने कहा है कि अगर कहीं सरकारी जमीन है तो उसको देखकर वहां कुछ खुदाई की जाय तो बहुत सारी चीजों की जानकारी मिल सकती है। अभी हाल ही में एक दो जगह आइडेंटीफाई किया गया है और उसी को हम देखने आये हैं।
पत्रकारों के एक अन्य प्रश्न का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि ये पाटलिपुत्र है, यहां का इतिहास लगभग 2 हजार साल पुराना है। अगर एक बार यहां के बारे में कुछ पता चल जाय तो यहॉ कितने टूरिस्ट आयेंगे। यहां का जो इतिहास है वो और ज्यादा सार्वजनिक होगा। नई पीढ़ी के लोग और इसके बारे में ठीक से जानेंगे और देखेंगे। इसके लिये हमलोगों की इच्छा शुरू से रही है लेकिन कहीं कोई जमीन नहीं रहने के कारण कुछ कर नहीं पा रहे हैं।
बीएनआर टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज का किया निरीक्षण
मुख्यमंत्री ने बी0एन0आर0 टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज का निरीक्षण किया। उन्होंने पुरातात्विक खुदाई को लेकर विशेषज्ञों एवं अधिकारियों के साथ कई बिंदुओं पर चर्चा की और आवश्यक निर्देश दिए।
   निरीक्षण के पश्चात पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने पुरातात्विक खुदाई को लेकर पहले ही बता दिया है कि जो सरकारी एरिया है उसमें खुदाई कर सकते हैं लेकिन यहां पर हम आये हैं और परिसर को देखे हैं। यहां पर स्कूल को और एक्सटेंशन करने की जरूरत है। एक तरफ बच्चियों के खेलने की व्यवस्था रहेगी और जो जगह बचेगा उसमें खुदाई किया जा सकता है।
निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री के परामर्शी अंजनी कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, अपर मुख्य सचिव संजय कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, पटना के प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, कला, संस्कृति एवं युवा विभाग की सचिव  बंदना प्रेयसी, जिलाधिकारी चंद्रशेखर सिंह, वरीय पुलिस अधीक्षक उपेंद्र शर्मा सहित अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे।

 

LEAVE A REPLY