75वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम ने कहा-यह नए भारत के सृजन का अमृतकाल है

301
0
SHARE
Independence Day,

नई दिल्ली.स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से कहा कि यह नए भारत के सृजन का अमृतकाल है.अमृतकाल देश के लिए अमृतपूर्ण भविष्य लेकर आएगा.उन्होंने सबका साथ,सबका विकास,सबका विश्वास और सबका प्रयास का नया मंत्र देते हुए कहा कि यह लक्ष्य की प्राप्ति के लिए महत्वपूर्ण है.इससे पूर्व पीएम मोदी ने लाल किला पर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराया. प्रधानमंत्री ने जब लाल किले की प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराया तभी भारतीय वायु सेना के दो एमआई-17 1वी हेलीकॉप्टर्स ने पहली बार समारोह स्थल के ऊपर पुष्प वर्षा की. रविवार सुबह जब पीएम मोदी का लाल किले पर आगमन हुआ तब रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और रक्षा सचिव ने उनकी अगवानी.

रक्षा सचिव, दिल्ली क्षेत्र के जनरल ऑफिसर कमांडिंग (जीओसी), लेफ्टिनेंट जनरल विजय कुमार मिश्रा का प्रधानमंत्री से परिचय कराया. इसके बाद दिल्ली क्षेत्र के जीओसी मोदी को सैल्यूटिंग बेस तक ले गए, यहां एक संयुक्त इंटर-सर्विसेज और दिल्ली पुलिस गार्ड ने प्रधानमंत्री को सामान्य सलामी दी. इसके बाद प्रधानमंत्री ने सलामी गारद का निरीक्षण किया.पीएम मोदी ने भाषण से पहले राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी. पीएम मोदी को लाल किले पर पहुंचने के बाद गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने अगले 25 सालों के भारत के भविष्य का खाका खींचा.

पीएम मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत में ओलंपिक में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले युवाओं को बधाई देते हुए देर तक ताली बजाई और देश की आजादी के लिए संघर्ष करने वाले सभी महापुरुषों को याद किया. पीएम मोदी ने लाल किले से कहा कि भारत के पहले प्रधानमंत्री नेहरू जी हों, देश को एकजुट राष्ट्र में बदलने वाले सरदार पटेल हों या भारत को भविष्य का रास्ता दिखाने वाले बाबासाहेब अम्बेडकर, देश ऐसे हर व्यक्तित्व को याद कर रहा है, देश इन सबका ऋणी है.

पीएम मोदी ने कहा कि हमे नए संकल्प के साथ आगे बढ़ना है. उन्होंने कहा कि यहां से शुरू होकर अगले 25 वर्ष की यात्रा जब हम आजादी की शताब्दी मनाएंगे, नए भारत के सृजन का ये अमृत काल है. इस अमृत काल में हमारे संकल्पों की सिद्धि हमें आज़ादी के 100 वर्ष तक ले जाएगी, गौरवपूर्ण रूप से ले जाएगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि संकल्प तब तक अधूरा होता है, जब तक संकल्प के साथ परिश्रम और पराक्रम की पराकाष्ठा न हो. इसलिए हमें हमारे सभी संकल्पों को परिश्रम और पराक्रम की पराकाष्ठा करके सिद्ध करके ही रहना है.
पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि नॉर्थ-ईस्ट में कनेक्टिविटी का इतिहास लिखा जा रहा है. सरकारी योजना का लाभ घर-घर तक पहुंच रहा है. सभी गांव में सड़कें होंगी. उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि विकास से कोई अछूता न रहे. आज लद्दाख भी विकास की ऊंचाईयां छू जा रहा है. जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव की तैयारियां कर रहा है.

पीएम ने अपने 90 मिनट के भाषण में दो बड़ी घोषणाएं की.इनमें युवाओं को रोजगार देने वाली 100 लाख करोड़ की शक्ति योजना और बेटियों के लिए भी देश के सभी सैनिक स्कूलों दाखिला शुरू करना शामिल है. पीएम ने कहा कि हम आजादी का जश्न मनाते हैं लेकिन बंटवारे का दर्द आज भी देश के सीने को छलनी करता है.पिछली शताब्दी की यह सबसे बड़ी त्रासदी है.कल ही एक भावुक निर्णय लिया गया है.अब हर वर्ष 14 अगस्त को विभाजन विभिषिका स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाएगा.पीएम ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक कर दुश्मनों को नए भारत ने संदेश दिया है.भारत बदल रहा है,भारत बदल सकता है,भारत कठिन से कठिन फैसले ले सकता है.उन्होंने “यही समय है,सही समय है……भारत का अनमोल समय है…” कविता पाठ करके भारतवासियों के मनोबल को बढाया.

LEAVE A REPLY