ओपलःसुख समृद्धि और रोमांस से भर देता है ऑस्ट्रेलिया का राष्ट्रीय रत्न

452
0
SHARE

मुकेश कुमार सिन्हा.

ओपल एक ऐसा रत्न जिसके बारे में कहा जाता है कि इसे धारण करने से जीवन में प्रेम-रोमांस और भौतिक सुख का आगमन होता है। इससे कई मुश्किलें भी दूर होती हैं।ऑस्ट्रेलिया में ओपल को राष्ट्रीय रत्न का दर्जा प्राप्त है।  यह बाकी रत्नों में सबसे ज्यादा रंगीन है और इंद्रधनुषी रंगों के कारण खूबसूरत और आकर्षक भी दिखता है।

ओपल रत्न एक प्रकार के धातु से बना “जैल” होता है। जो बहुत ही कम तापमान पर चूनापत्थर, बलुआ पत्थर, आग्नेय चट्टान, मार्ल और बेसाल्ट चट्टान की दरारों में इकट्ठा होने से बनता है। प्रकृति में सोलह प्रकार के ओपल पाए जाते हैं। वैसे तो यह उपरत्न भी कई रंगों में पाया जाता है। लेकिन सबसे अधिक मूल्यवान ओपल, काले तथा सफेद रंग के होते हैं। जिन ओपल में लाल रंग की झलक दिखाई देती हैं, वह ओपल अच्छे किस्म के माने जाते हैं और यह अधिक मूल्यवान भी होते हैं।

सफेद रंग का ओपल रत्न देखने में बहुत सुंदर और आकर्षक होता है। ये रत्न आपके जीवन में आ रही कई तरह की परेशानियों को दूर कर सकता है।

ओपल रत्न शुक्र ग्रह के प्रभाव को बढ़ाता है। यह स्टोन पति-पत्नी के बीच चल रहे क्लेश को दूर करता है। इसे धारण करने से पति-पत्नी और प्रेमी-प्रेमिका के बीच यदि खराब संबंध है, तो वह शीघ्र ठीक हो जाते हैं। ओपल रत्न महिलाओं तथा पुरुषों के निजी जीवन में प्यार और रोमांस को पुनर्जीवित करता है। इसे पहनने से एक  अतिरिक्त सकारात्मक vibrations अनुभव होता है, ऐसा लगता है  मानो कोई छुपी हुई शक्ति जागृत हो गई हो।

दांपत्य जीवन, पति पत्नी में यदि अकारण क्लेश, दरार या तलाक की स्थिति आने लगे तो ओपल रत्न धारण करने से कड़वाहट को शीघ्र ही दूर किया जा सकता है।ओपल पहनने से सौंदर्य और आकर्षण तो बढ़ता ही है, यौन शक्ति में भी वृद्धि होती है। यह रत्न मानसिक स्तर की भी वृद्धि करता है। जो व्यक्ति निराश और थका हुआ महसूस करता है, वह यदि ओपल पहनता है, तो उसमें सकारात्मक ऊर्जा का संचार होने लगता है।

ओपल पहनने से व्यक्ति में आध्यात्मिकता तथा सात्विक चिंतन का विकास होता है। अध्यात्म  की राह में, और ध्यान में मन केंद्रित करने में सहायता मिलती है।यह मन को शांत करके, आध्यत्मिक उर्जाओं और चेतनाओं को जगाकर कल्पना शक्ति बढ़ाता है। आर्थिक समृद्धि, मान सम्मान, लोकप्रियता के साथ-साथ, शारीरिक तंदुरुस्ती भी प्रदान करता है।

सौंदर्य प्रसाधनों से संबंधित क्षेत्र में व्यवसाय या काम करने वाले जातकों को ओपल रत्न जरूर धारण करना चाहिए। इससे इन्हे व्यापार में नई संभावनाएं मिलती हैं।कला के क्षेत्र से जुड़े लोगों को भी ओपल रत्न धारण करने से लाभ होगा। अभिनय, टीवी, फिल्म, थिएटर में काम कर रहे कलाकारों तथा कंप्यूटर, आईटी आदि से जुड़े  व्यक्तियों को यह उपरत्न जरूर पहनना चाहिए।

धन से जुड़ी समस्याओं का निदान भी ओपल रत्न कर सकता है। आर्थिक समस्याओं से ग्रस्त जातक को ओपल रत्न जरूर पहनना चाहिए। यात्रा, पर्यटन और आयात/निर्यात के व्यवसाय से जुड़े लोगों के लिए यह विशेष लाभदायी होता है।

नेत्र रोगियों को भी ओपल रत्न धारण करने से लाभ होता है। मधुमेह जैसे खतरनाक रोगों से मुक्ति दिलाने में भी ये रत्न लाभकारी माना जाता है। किडनी स्टोन के मरीज़ों को भी इस रत्न से लाभ मिलता है। एंडोक्राइन सिस्टम और हार्मोनल डिसऑर्डर में भी इस रत्न से आराम मिलता है।

वृषभ, मिथुन, कन्या, तुला, मकर और कुम्भ लग्न राशि के जातक के लिए यह  रत्न शुभ है। उन्हें पहनने से लाभ होगा। इसके अलावा जन्मकुंडली में शुक्र की स्थिति को मजबूत करने के लिए भी ओपल रत्न पहना जाता है।

(लेखक ज्योतिष के जानकार हैं, इनसे फोन नं. 9097342912 पर संपर्क किया जा सकता है।)

LEAVE A REPLY