सरकारी अस्पतालों की बदहाली का लाभ उठा रहे हैं प्राइवेट क्लिनिक-पप्पू यादव

812
0
SHARE

संवाददाता.पटना. जन अधिकार पार्टी (लो) के संरक्षक और सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने सोमवार को फोर्ड हॉस्‍पीटल में ‘आपका सेवक आपके द्वार’ कार्यक्रम के तहत मरीजों और उनके परिजनों से मिले। इस दौरान सांसद ने जन अधिकार पार्टी (लो) की ओर से कई जरूरतमंद मरीजों के परिजन को आर्थिक मदद भी की। साथ ही उन्‍होंने अस्‍पताल प्रबंधन से बेहतर इलाज का आग्रह किया।

कार्यक्रम के दौरान सांसद ने बिहार की बदहाल मेडिकल सिस्‍टम पर जमकर हमला बोला और कहा कि बिहार में स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍था बुरी तरह चरमरा गयी है। अस्‍पतालों की हालत दयनीय हो गई। पटना जैसे शहर में जब अस्‍पतालों की हालत खास्‍ता है, तो समझा जा सकता है कि राज्‍यभर के सदर अस्‍पतालों की हालत कैसी होगी। बदहाल सरकारी स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍था का लाभ प्राइवेट क्लिनिक उठा रहे हैं। प्राइवेट अस्‍पताल और पैथोलॉजी लूट के अड्डा बन गये हैं। जहां इलाज के नाम पर मृत शरीर को भी नहीं छोड़ा जाता है और आईसीयू में रखकर आम जनता की गाढ़ी कमाई उनके जेब से निकाली जाती है। जब हम इसके खिलाफ अवाज उठाते हैं, तो इन माफियाओं और सत्ता द्वारा जबरदस्‍ती हमारे खिलाफ मुकदमे किये जाते हैं। मगर हम डरने वाले नहीं हैं।

सांसद ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार और उनकी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि बिहार में कानून व्‍यवस्‍था एकदम बहदाल हो गयी है। कानून पर से लोगों का भरोसा उठ गया है। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार विकास कार्यों के बजाये जागरूकता पर बल दे रहे हैं। नशाबंदी, दहेजबंदी और बालविवाह बंदी के नाम पर लोगों को गुमराह किया है। मगर बिहार की जनता इस बार उनके झांसे में नहीं आई। मानव श्रृंखला के लिए लिए सरकारी संसाधनों का दुरुपयोग किया गया। इन संसाधनों को शिक्षा पर खर्च करके हालत में सुधार किया जा सकता था।

सांसद ने कहा कि जन अधिकार पार्टी शिक्षा माफिया और मेडिकल माफिया के खिलाफ लगातार अभियान चला रही है। इसका विस्‍तार जिला और प्रखंड स्‍तर पर किया जायेगा। पार्टी इन मुद्दों पर लगातार आंदोलन भी कर रही है।

इस मौके पर पार्टी के राष्‍ट्रीय महासचिव व प्रवक्‍ता प्रेमचंद सिंह, राजेश रंजन पप्‍पू, राघवेंद्र कुशवाहा, एजाज अहमद, चिकित्‍सा सेल के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष विश्‍वनाथ प्रसाद, आनंद मधुकर यादव, राकेश पंडित उर्फ मुन्‍ना, अकबर अली परवेज आदि मौजूद थे।

 

LEAVE A REPLY